5 Effective Yoga Poses for Children with Autism Spectrum Disorder In Hindi

0
54
5 Effective Yoga Poses for Children with Autism Spectrum Disorder In Hindi
5 Effective Yoga Poses for Children with Autism Spectrum Disorder In Hindi

5 Effective Yoga Poses for Children with Autism Spectrum Disorder In Hindi: योग आदर्श रूप से एक आजीवन अभ्यास है, जिसका अभ्यास बच्चों से लेकर बड़े वयस्कों तक सभी उम्र के लोग कर सकते हैं। योग स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है, स्व-नियमन, संतुलन, शक्ति, शक्ति, लचीलापन, शांत और बेहतर व्यवहार और कल्याण में सुधार करते हुए विभिन्न रोग लक्षणों को कम करने में मदद करता है।

  • लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (ASD) से पीड़ित बच्चों के लिए भी योग कारगर साबित हो सकता है, जो एक न्यूरोलॉजिकल और डेवलपमेंटल डिसऑर्डर है।
  • अध्ययन में आत्मकेंद्रित बच्चों के लिए माइंडफुलनेस मेडिटेशन और योग के अभ्यासों का लाभ दिखाया गया है। इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है और माता-पिता भी इसको स्वीकार करने को तैयार हैं।

हालांकि ऑटिज्म के कुछ लक्षणों को दवा से नियंत्रित किया जा सकता है, लेकिन इससे होने वाले भावनात्मक बदलावों के लिए योग से बेहतर कोई इलाज नहीं है।

योग और आत्मकेंद्रित | Yoga and AutismYoga Poses for Autism

  • ऑटिज्म या एएसडी से पीड़ित बच्चों में विभिन्न शारीरिक और मानसिक अक्षमताएं होती हैं, उनमें आत्मविश्वास की कमी होती है और उनका शारीरिक संतुलन खराब होता है।
  • योग करने से किसी भी काम में ध्यान लगाने की क्षमता बढ़ती है।
  • योग की मदद से मन और हृदय का संतुलन भी बढ़ता है, जिससे बच्चे में नई चीजें सीखने की उत्सुकता बढ़ती है।
  • इंटरनेशनल जर्नल ऑफ योग थेरेपी में प्रकाशित एक अध्ययन में 16 सप्ताह की अवधि में ऑटिज्म से पीड़ित बच्चों का पालन किया गया और पाया गया कि इन बच्चों ने कौशल में सुधार किया और साथ ही साथ मुंह से चेहरे की गतिविधियों पर ध्यान दिया , सांस लेने के व्यायाम पर ध्यान दिया, और कौशल में सुधार दिखाया।

बच्चों के लिए आत्मकेंद्रित योग | Yoga for Autism Children

  • योग मुद्राएं और व्यायाम,कौशल और लचीलेपन में सुधार करते हैं। प्रकृति से जुड़े योग आसनों की कहानियों के साथ बच्चे योग का आनंद लेते हैं।

अर्ध भुजंगासन (Ardha Bhujangasana) Baby Cobra Pose

 (Ardha Bhujangasana) Baby Cobra Pose
(Ardha Bhujangasana) Baby Cobra Pose

अर्ध भुजंगासन एक शुरुआती योग मुद्रा है जो जागरूकता बढ़ाता है और मांसपेशियों को मजबूत करने का एक बड़ा अवसर प्रदान करता है।

कैसे करें :-
  • सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं, कोहनियों को मोड़ें और हाथों को कंधों के नीचे छाती के पास रखें।
  • सांस अंदर लें और अपने हाथों का दबाव जमीन पर और अपने सिर, कंधों और छाती पर उठाएं।
  • गर्दन को पीछे धकेलें और अपनी निगाहें आसमान पर रखें।
  • इस मुद्रा में जितनी देर तक आराम से रह सकें, रहें।

वृक्षासन (Vrikshasana) Tree Pose

वृक्षासन (Vrikshasana) Tree Pose
वृक्षासन (Vrikshasana) Tree Pose

शारीरिक जागरूकता को बढ़ावा देता है और मौखिक अनुभूति विकसित करने में सहायता करता है।

कैसे करें :-
  • ताड़ासन में लंबे समय तक खड़े रहें और फिर शरीर को संतुलित करें।
  • अपने बाएं पैर को जमीन से उठाएं और इसे अपने दाहिने पैर से जमीन पर संतुलित करें।
  • अब बाएं पैर को दाएं पैर की जांघ पर टिकाएं।
  • हाथों को कंधों के समानांतर उठाएं और फिर उन्हें सिर के ऊपर ले जाकर ताली बजाएं।
  • बच्चों को बार-बार ताली बजाने को कहें ताकि उनका मनोरंजन हो और खुशी-खुशी योग सीखें।

मार्जरी आसन (Marjariasana) Cow Pose

मार्जरी आसन (Marjariasana) Cow Pose
मार्जरी आसन (Marjariasana) Cow Pose

आसन योग मुद्रा बच्चों के आंतरिक अंगों और रीढ़ की धीरे-धीरे मालिश करती है। यह उनकी मांसपेशियों को मजबूत और लचीला बनाता है।

कैसे करें :-
  • सबसे पहले घुटने टेककर वज्रासन में बैठ जाएं।
  • अब दोनों हाथों को घुटनों से 2 फीट आगे रखें, ध्यान रखें कि हथेलियां जमीन को छुएं।
  • कूल्हों को पीछे से उठाएं और उन्हें अपने कंधों के समानांतर रखें।
  • गर्दन को पीछे की ओर धकेलें और फिर गर्दन को नीचे लाएं और चीन को छाती पर लगाएं।
  • इस प्रक्रिया को बार-बार दोहराएं।

अधोमुख सवासन (Adho Mukha Savasana) Downward Facing Dog

अधोमुख सवासन (Adho Mukha Savasana) Downward Facing Dog
अधोमुख सवासन (Adho Mukha Savasana) Downward Facing Dog

इस मुद्रा को करने से आत्मविश्वास बढ़ता है और तनाव नहीं होता है। इस आसन को करने के लिए आपको अपनी पीठ के बल आगे की ओर झुकना होगा। यह तनाव में राहत देता है।

कैसे करें :-
  • अपने हाथों और घुटनों पर आओ।
  • अब शरीर के बीच के हिस्से को ऊपर उठाकर स्ट्रेच करें।
  • इस स्थिति में शरीर उल्टा और आकार में दिखाई देगा।
  • ठुड्डी को छाती पर रखें और नाभि पर ध्यान दें।
  • पैरों और बाहों को समानांतर रखें और जमीन से दबाएं।

प्राणायाम (Pranayama)

प्राणायाम (Pranayama)
प्राणायाम (Pranayama)
  •  योग क्रोध, झुंझलाहट, निराशा और चिंता जैसी नकारात्मक भावनाओं को दूर करता है।
  • मस्तिष्क को शांत करने में मदद करता है और तंत्रिका तंत्र रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है, एकाग्रता और स्मृति को बढ़ाता है।
  • चिंता, तनाव और अवसाद को कम किया जा सकता है।

निष्कर्ष (Conclusion)

  • योग में आसनों के अलावा गानों से थेरेपी और गहरी सांस लेने की भी अहम भूमिका होती है।
  • योग और ध्यान की मदद से बच्चा बाहरी दुनिया के साथ-साथ अपने अंदर भी कई बदलाव महसूस करेगा।
  • समय के साथ, नई चीजों का उसका डर कम हो जाएगा और वह शांत और व्यवस्थित दिखेगा।
  • ऑटिज्म से पीड़ित बच्चों के लिए योग आत्म-विश्वास बढ़ाने का एक बेहतर सुझाव माना जाता है।

You Can Also Visit On My YouTube Channel: Fitness With Nikita

Also, Read 

Watch Best Hollywood MoviesBollywood Movies, and Web Series in Full HD FREE.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here