Best Top 5 Yoga Poses to Cure Diabetes at Home in Hindi | डायबिटीज को जड़ से खत्म कर देंगे योग के ये 5 आसन

0
475
Best Top 5 Yoga Poses to Cure Diabetes at Home in Hindi | डायबिटीज को जड़ से खत्म कर देंगे योग के ये 5 आसन
Best Top 5 Yoga Poses to Cure Diabetes at Home in Hindi | डायबिटीज को जड़ से खत्म कर देंगे योग के ये 5 आसन

Best Top 5 Yoga Poses to Cure Diabetes at Home in Hindi | डायबिटीज को जड़ से खत्म कर देंगे योग के ये 5 आसन: रोजाना 5 प्राणायाम और 5 योग आसन करने से मधुमेह(डॉयबिटीज़)को आसानी से दूर किया जा सकता है।योग द्वारा किसी भी तरह की डायबिटीज से निजात दिलाने में मदद कर सकते हैं।

इस समय जब दुनिया कोरोनावायरस जैसी घातक महामारी का सामना कर रही है, सरकार ने COVID-19 के प्रभाव को रोकने के लिए कई राज्यों में लॉकडाउन जारी किया हुआ है। अध्ययनों से पता चला है कि कोरोनावायरस से संक्रमित 3 मरीजों में से एक मधुमेह से पीड़ित रहा है।

  • मधुमेह से पीड़ित होने के कई कारण हो सकते हैं:-

मधुमेह होने के तीन मुख्य कारण होते हैं……..

  1. अनुवांशिकी
  2. अस्वस्थ जीवन शैली और
  3. लंबी बीमारी के कारण आप अस्वस्थ जीवनशैली अपनाते हैं जिससे आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है। इससे ब्लड शुगर का खतरा बढ़ जाता है।

निम्नलिखित आसन और प्राणायाम द्वारा आप मधुमेह से निजात पा सकते हैं :-

1. मंडुकासन (Mandukasana) Frog Pose

मंडुकासन (Mandukasana) Frog Pose
मंडुकासन (Mandukasana) Frog Pose

इस आसन को करने से अग्न्याशय आवश्यक रस उत्पन्न करेगा जो मधुमेह को ठीक करने में मदद करेगा। यह पाचन तंत्र में सुधार करता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

कैसे करें :-

  • आराम से वज्रासन मुद्रा में बैठें |
  • दोनों हाथों की मुट्ठियों को बंद करें |
  • अंघूठें को मुट्ठी के अंदर की तरफ दबाएं |
  • अपनी दोनों मुट्ठियों को नाभि के साइड में रखें |
  • साँसों को छोडते हुए आगे की तरफ झुकें और सामने की तरफ देखते रहें |
  • साँसों को रोककर कुछ देर इसी स्तिथि में रहें |
  • अपनी क्षमता अनुसार रुकें और साँसों को भरते हुए वापिस पहले स्तिथि में आ जाएँ |
  • इसे चार से पांच बार दोहराएं।

2. वक्रासन Vakrasana (Twisted Pose)

वक्रासन Vakrasana (Twisted Pose)
वक्रासन Vakrasana (Twisted Pose)

इस आसन को करने से पीठ, पेट सहित पूरा शरीर स्वस्थ रहेगा। यह वजन को बनाए रखता है, रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाता है।

कैसे करें :-

  • दण्डासन की स्तिथि में बैठ जाएँ|
  • सीधे पैर को मोड़कर उलटे पैर के घुटनो के पास रखें |
  • बाएं पैर को घुटने से मोड़ें और पैर को दाएं घुटने के पास रखें।
  • रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें और उलटे हाथ को सीधे पैर से बाहर की तरफ ले जाते हुए उलटे पैर के घुटने को पकड़ेंगे |
  • कुछ देर इसी स्तिथि में रुकेंगें और साँसों को छोरडते हुए वापिस आ जायेंगें |
  • विपरीत दिशा से दोहराएं।
  • 4 से 5 राउंड करेंगें।

3. उत्तानपादासन (Uttanapadasana) Raised Leg Pose

उत्तानपादासन (Uttanapadasana) Raised Leg Pose
उत्तानपादासन (Uttanapadasana) Raised Leg Pose

इस आसन को करने से आपको मधुमेह के साथ-साथ कब्ज की समस्या से भी निजात मिल सकता है।

कैसे करें :-

  • कमर की तरफ से लेट जाएँ |
  • हाथों को जाँघों के साइड में रखेंगें |
  • साँसों को भरते हुए दोनों पैरों को एक साथ 1 फ़ीट तक उठाएंगें |
  • अपनी क्षमता अनुसार कुछ देर इसी स्तिथि में रुकेंगें और धीरे-धीरे वापिस आ जायेंगें |
  • 5 से 6 बार इस क्रिया को करेंगें |

4. पवनमुक्तासन (Pawanmukta Asana) Wind Relieving Pose

पवनमुक्तासन (Pawanmukta Asana) Wind Relieving Pose
पवनमुक्तासन (Pawanmukta Asana) Wind Relieving Pose

मजबूत रीढ़ की हड्डी के साथ-साथ अग्न्याशय प्रभावी ढंग से काम करता रहता है। ऐसा करने से आपको पेट की चर्बी से राहत मिलेगी। यह ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने में भी मदद करता है जो आपके दिल को स्वस्थ रखने में मदद करता है।

कैसे करेँ :-

  • कमर की साइड से लेट जाएँ |
  • दोनों पैरों को मोड़ें और घुटनो को मोड़ते हुए पेट की तरफ ले जाएँ और सेर को उठाते हुए घुटनो की तरफ लाएं|
  • साँसों को खाली करते हुए दोनों हाथों को इंटरलॉक करके घुटनो को पकड़ें और नासिका से लगाने का प्रयास करेँ |
  • कुछ देर इस स्तिथि को बनाएं रखें |
  • 7 से 8 बार इस क्रिया को करेँ |

5. नौकासन (Naukasana) Boat Pose

नौकासन (Naukasana) Boat Pose
नौकासन (Naukasana) Boat Pose

यह आसन पेट की चर्बी कम करने क साथ-साथ पाचन क्रिया को भी मज़बूत बनाता है।

   कैसे करें :-

  • लेट जाएँ |
  • हाथों को जाँघों क ऊपर रखेंगें |
  • साँसों को भरते हुए पैरों और ऊपरी हिस्से को अपनी क्षमता अनुसार उठा लेंगे ,जिससे एक नौका का आकार बन जाएगा |
  • रीढ़ की हड्डी को सीधा रखेंगें |
  • अपनी क्षमता अनुसार रुकें |
  • साँसों को खाली करते हुए वापिस पूर्व स्तिथि में वापिस आ जायेंगें |
  • 5 से 6 बार इस क्रिया को करेंगें |

6. गोमुखासन (Goumukhasana) Cow Face Pose

गोमुखासन (Goumukhasana) Cow Face Pose
गोमुखासन (Goumukhasana) Cow Face Pose

यह फेफड़ों को साफ करने के अलावा सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस को ठीक रखने में मदद करता है।

कैसे करें :-

  • दण्डासन में बेथ जाएँ |
  • सीधे पैर को मोड़ें |
  • उलटे पैर को मोड़कर सीधे पैर के ऊपर रखें |
  • सीधे पैर के ऊपर उलटे पैर का घुटना रखें |
  • अब जो पैर ऊपर ह उसी हाथ को ऊपर की तरफ से पीठ के पीछे ले जाएँ और सीधे हाथ को पीछे की तरफ से निचे की और से अब दोनों हाथों को पकड़ने का परया स्क्रीन और खीचें |
  • रीढ़ की हड्डी को सीधा रखते हुए अपनी क्षमता अनुसार रुकें |
  • अब यही क्रिया दूसरी तरफ से दोहरायें |
  • 7 से 8 बार इसको दोहराएं |

7. भस्त्रिका प्राणायाम (Bhastrika Pranayama) Yogic Breath of Fire

भस्त्रिका प्राणायाम
भस्त्रिका प्राणायाम

इस क्रिया में बलपूर्वक और तेज़ साँस लेने और छोड़ने की ज़रुरत होती है। इस क्रिया द्वारा फेफड़ों की क्षमता बढ़ जाती है

और आगे पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

8. कपालभाती प्राणायाम (Kapalbhati Pranayama) Breath of Fire

कपालभाती प्राणायाम
कपालभाती प्राणायाम

जब भी प्राणायाम किया जाता है तो हमारे शरीर से विषैले पदार्थ साँसों द्वारा बाहर निकलते है| कपालभाति द्वारा हमारा शरीर अंदर से डिटॉक्स होता है।

और आगे पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

9. भ्रामरी प्राणायाम (Bhramari Pranayama) Humming Bee Breath

भ्रामरी प्राणायाम
भ्रामरी प्राणायाम

इस प्राणायाम का नाम भ्रामरी से मिला, जो काली भारतीय मधुमक्खी थी। यह क्रिया चिंता से निकालने के लिए मदद करता है।  इसे कभी भी, कहीं भी कर सकते हैं।

और आगे पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

10 . Anulom-Vilom Pranayama (अनुलोम-विलोम प्राणायाम)

Anulom-Vilom Pranayama
Anulom-Vilom Pranayama

मनुष्य के लिए न केवल शारीरिक स्वास्थ्य बल्कि मानसिक स्वास्थ्य भी उसके जीवन का एक महत्वपूर्ण पहलू है।

और आगे पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

मधुमेह के लिए घरेलू उपचार (Madhumeh ke liye Gharelu Upchar in Hindi) Home Remedies for Diabetes in Hindi

  • इन योगासन के साथ गिलोय, तुलसी, काली मिर्च और अश्वगंधा का एक (काढ़ा) पिएं।
  • अगर आप शहद खाना चाहते हैं तो 1 चम्मच से ज्यादा न खाएं।
  • गुलमर्ग जड़ी बूटी के 2-3 पत्ते खाएं।
  • प्याज का रस, नींबू का रस, अदरक का रस, लहसुन का रस डाल कर एक साथ पकाएं। इसके बाद इसमें बराबर मात्रा में शहद मिलाकर ठंडा होने के लिए रख दें। कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने और मधुमेह रोगी इस मिश्रण का एक चम्मच रोजाना सेवन करें।
  • जामुन, सिरका और गुठली का सेवन करें। यह अग्न्याशय में स्वाभाविक रूप से इंसुलिन पैदा करेगा।
  • 1 करेला, 1 खीरा और 1 टमाटर लें। इन तीनों के रस में 10-12 सहबहार के फूल, थोड़ा सा एलोवेरा, अश्वगंधा, तुलसी, आंवला, गिलोय का रस मिलाकर खाली पेट सेवन करें।चाहें तो सिर्फ खीरा, करेला और टमाटर का जूस भी बना सकते हैं.

You Can Also Visit On My YouTube Channel: Fitness With Nikita

Also, Read 

Best Diet Chart for Covid 19 Patients in Hindi/English

Watch Best Hollywood MoviesBollywood Movies, and Web Series in Full HD FREE.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here