CAMPHOR HEALTH BENEFITS :TRY FOR SKIN,HAIR AND HEALTH IN HINDI | कपूर के लाभ: त्वचा, बालों और स्वास्थ्य के लिए

0
67
CAMPHOR HEALTH BENEFITS :TRY FOR SKIN,HAIR AND HEALTH IN HINDI | कपूर के लाभ: त्वचा, बालों और स्वास्थ्य के लिए
CAMPHOR HEALTH BENEFITS :TRY FOR SKIN,HAIR AND HEALTH IN HINDI | कपूर के लाभ: त्वचा, बालों और स्वास्थ्य के लिए

CAMPHOR HEALTH BENEFITS :TRY FOR SKIN,HAIR AND HEALTH IN HINDI | कपूर के लाभ: त्वचा, बालों और स्वास्थ्य के लिए:-आस्था के अलावा स्वास्थ्य की बात करें तो कपूर के फायदे इस मामले में भी पीछे नहीं हैं। यह ज्वलनशील और पारभासी ठोस सदियों से कई त्वचा और बालों के उपचार में इसे एक उपयुक्त घटक बनाने के लिए उपयोग किया जाता रहा है।

कपूर के पेड़ की छाल और लकड़ी को आसवन द्वारा संसाधित करके कपूर बनाया जाता है जिसका उपयोग आमतौर पर क्रीम, मलहम, लोशन और यहां तक ​​कि विक्स वेपोरब जैसे उत्पादों में किया जाता है। हालांकि, कपूर के उपयोग का समर्थन करने के लिए कोई अच्छा वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है।

यह भी महत्वपूर्ण है कि जब तक आप इसे सही तरीके से उपयोग करते हैं तब तक इसका उपयोग करना सुरक्षित है। मौखिक कपूर से जहर हो सकता है।

कपूर क्या है? – प्रकार और उपयोग (WHAT IS CAMPHOR?-TYPES & USES IN HINDI)

  • कपूर (दालचीनी कपूर) एक कार्बनिक यौगिक (टेरपीन) है। यह सफेद रंग का मोम जैसा पदार्थ है। इसकी तीखी गंध होती है, जिसका उपयोग ज्यादातर घर में पूजा के लिए किया जाता है।
  • इस ज्वलनशील और पारभासी ठोस का उपयोग सदियों से कई दर्द, जलन और खुजली से राहत पाने के लिए किया जाता रहा है। छाती में जमाव और सूजन की स्थिति में भी कपूर का प्रयोग एक उपयुक्त घटक बन जाता है और सांस लेने में मदद करता है।
  • कपूर का उपयोग तिलचट्टे, पतंगे और अन्य कीड़ों को अलमारी से दूर रखने के लिए भी किया जाता है। कपड़ों को लंबे समय तक सुरक्षित रखने के लिए कई लोग कपूर का इस्तेमाल करते हैं। साथ ही यह त्वचा और बालों के लिए भी फायदेमंद होता है।
  • कम मात्रा में कपूर का सेवन करना सुरक्षित है क्योंकि कपूर की उच्च खुराक से अपच, मतली और उल्टी हो सकती है।

कपूर के प्रकार/TYPES OF CAMPHOR IN HINDI

कपूर तीन अलग-अलग वर्गों के पौधों से प्राप्त किया जाता है।

(1) चीनी या जापानी कपूर,

(2) भीमसेनी या बरस कपूर,

(3) हिंदुस्तानी या पेट्री कपूर।

उपरोक्त तीन प्रकार के कपूर के अलावा आजकल संश्लेषित कपूर भी तैयार किया जाता है।

कपूर की उपलब्धता को किसी एक पेड़ या प्रजाति से नहीं जोड़ा जा सकता। इसकी प्रचुर उपलब्धता के आधार पर इसे कई अन्य वृक्ष प्रजातियों से भी प्राप्त किया जाता है।

कपूर का उपयोग किस लिए किया जाता है?/CAMPHOR IS USED FOR  IN HINDI

कपूर में एंटीसेप्टिक, एंटीप्रुरिटिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एक्सपेक्टोरेंट, एंटीकैंसर, एंटीस्पास्मोडिक 2, एंटिफंगल 4 और एनाल्जेसिक (सामयिक) गुणों की एक विस्तृत विविधता है।

इसका इलाज करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है-

  • त्वचा/SKIN
  • श्वसन क्रिया में सुधार/IMPROVE RESPIRATORY SYSTEM
  • दर्द से छुटकारा/PAIN RELIEF
  • जलन /HEAL BURNS
  • गठिया का इलाज करता है/TREAT ARTHRTIS
  • नाखून के फंगस का इलाज करता है/TREAT NAILS FUNGUS
  • कंजेशन और खांसी से राहत दिलाता है/RELIEF CONGESTION & COUGHING
  • मांसपेशियों में ऐंठन, ऐंठन और जकड़न से छुटकारा पाएं/RELIEF MUSCLE CRAMPS & STIFNESS
  • बाल झड़ना/HAIR LOSS
  • मुँहासे और मौसा/ACNE & WARTS
  • कान का दर्द / EARACHES
  • मुँह के छाले/COLD SORES
  • बवासीर/HEMORRHOIDS
  • हृदय रोग के लक्षण/HEART DISEASE
  • पेट फूलना/FLATULENCE
  • चिंता/STRESS OR ANXIETY

कपूर के लाभ / BENEFITS OF CAMPHOR IN HINDI

कपूर के लाभों और इसके सहायक वैज्ञानिक प्रमाणों के बारे में और जानें।

एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर/RICH IN ANTIOXIDANTS

  • शोध के अनुसार, सिनामोमम ओस्मोफ्लोयम केनेह नाम के पेड़ में मुख्य तत्व के रूप में कपूर पाया जाता है। साथ ही शोध में यह भी बताया गया है कि इसमें पाए जाने वाले कपूर में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं।
  • एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव शरीर को फ्री रेडिकल्स से लड़ने की क्षमता देता है।
  • ऑक्सीडेटिव तनाव मुक्त कणों के कारण होता है, जो कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने के साथ-साथ अल्जाइमर (भूलने की बीमारी), हृदय रोग और मधुमेह जैसी कई गंभीर बीमारियों का कारण बनता है।
  • कपूर में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण इन जैसी कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से राहत दिलाने में मददगार साबित हो सकते हैं।

एंटीसेप्टिक गुणों से भरपूर/ENRICHED WITH ANTISEPTIC PROPERTIES

  • एंटीसेप्टिक का मतलब बैक्टीरिया और सूक्ष्म जीवों से बचाव करना है। इसी वजह से जिन चीजों में एंटीबैक्टीरियल और एंटी-माइक्रोबियल प्रभाव होता है उन्हें एंटीसेप्टिक प्रभाव से भरपूर माना जाता है।
  • एक शोध में इस बात का जिक्र किया गया है कि कपूर में एंटीबैक्टीरियल और एंटी-माइक्रोबियल दोनों तरह के प्रभाव पाए जाते हैं।
  • इसी कारण से कहा जा सकता है कि कपूर शरीर पर लगे छोटे-मोटे घावों को सड़ने से बचाने में मददगार साबित हो सकता है।

कामेच्छा बढ़ाने वाला/LIBIDO ENHANCER

  • यौन संबंधों के प्रति रुझान बढ़ाने में भी कपूर का प्रयोग लाभकारी माना जा सकता है। कपूर के औषधीय गुणों पर किए गए एक शोध में बताया गया है कि इसमें कामोत्तेजक यानी कामेच्छा बढ़ाने की क्षमता होती है और ऐसे में कपूर के तेल का इस्तेमाल फायदेमंद साबित हो सकता है।
  • वहीं, अत्यधिक उपयोग के कारण यह एंटी-एफ़्रोडायसियाक यानि कामेच्छा को कम करने जैसे प्रभाव भी प्रदर्शित कर सकता है। इसलिए, यहां इसका उपयोग करते समय बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है।

दर्द से राहत मिलना/PAIN RELIEF

  • कुछ शोधों के अनुसार, कपूर या कपूर का तेल, मेन्थॉल और लौंग और नीलगिरी के आवश्यक तेल जैसे प्राकृतिक तत्व तंत्रिका संवेदनशीलता को कम करने और आपको दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं।
  • जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए दिन में कई बार तिल के तेल को प्रभावित जगह पर गर्म करके कपूर मिलाकर इस मिश्रण से जोड़ों की मालिश करें।

जलन /HEAL BURNS

  • अगर आपका हाथ जल गया है तो कपूर का लेप लगाने से बहुत फायदा होता है। दरअसल, जले हुए घावों को ठीक करने के लिए आप कपूर का लेप या क्रीम बना सकते हैं।
  • दरअसल, यह एंटीसेप्टिक है। इसके लिए आपको कपूर को पीसकर उसमें शहद मिलाना है।
  • फिर इसे अपने घाव पर लगाएं। इससे पहले आपकी जलन कम होगी और फिर घाव को भरने में मदद मिलेगी।

सर्दी-खांसी दूर रखें/KEEP COLD COUGH AWAY

  • सर्दी-खांसी से बचाव के लिए कपूर को नारियल के तेल में मिलाकर छाती पर लगाने की सलाह दी जाती है।
  • कहा जाता है कि कपूर में एंटीवायरल (वायरस संक्रमण के खिलाफ सुरक्षात्मक) और एंटीट्यूसिव (खांसी की रोकथाम और राहत) प्रभाव होता है।
  • कपूर में मौजूद ये दोनों प्रभाव सर्दी-खांसी की समस्या को दूर रखने में मददगार साबित हो सकते हैं।

त्वचा के लिए/FOR SKIN

  • कपूर में एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल (त्वचा पर फंगस के प्रभाव को दूर करने वाले) गुण होते हैं, जो त्वचा संबंधी कई समस्याओं को दूर करने में मददगार साबित हो सकते हैं।
  • इस कारण कपूर सेहत के साथ-साथ त्वचा के लिए भी फायदेमंद माना जा सकता है।
  • 2015 के एक पशु अध्ययन में कपूर को घावों और पराबैंगनी प्रकाश से प्रेरित झुर्रियों को ठीक करने में उपयोगी पाया गया। फिलहाल इस संबंध में और शोध की जरूरत है।

बालों के लिए कपूर/FOR HAIR

  • लंबे बाल हर किसी की चाहत होती है। लेकिन झड़ते बाल लंबे समय तक कैसे बढ़ सकते हैं?
  • ऐसे में कपूर के तेल को एसेंशियल ऑयल के साथ मिलाकर बालों की सेहत के लिए भी फायदेमंद होता है। चाहें तो लैवेंडर या कैमोमाइल या नारियल के तेल में कपूर का तेल मिलाकर लगाएं।
  • बालों में रहने वाले जूँ सिर के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते हैं। आपने भी कई तरह के एंटी-डैंड्रफ शैंपू का इस्तेमाल करके देखा होगा, जुएं दूर होने का नाम ही नहीं लेतीं। ऐसे में पानी में कपूर का तेल मिलाकर स्नान करें।
  • कपूर के तेल में निहित एंटीऑक्सीडेंट संक्रमण विरोधी एजेंट के रूप में कार्य करते हैं और जूँ को मारते हैं।

दुष्प्रभाव/SIDE EFFECTS

  • कम मात्रा में उपयोग करने पर कपूर सुरक्षित और फायदेमंद होता है।
  • त्वचा के गैप और खुले घावों पर कपूर लगाने से बचें क्योंकि वहां कपूर लगाने से इसके जहरीले होने की संभावना रहती है। कंजेशन कम करने के लिए कपूर को कुछ हद तक अंदर लेना ठीक है।
  • कपूर का अधिक मात्रा में सेवन खतरनाक हो सकता है। कपूर जहर के लक्षण हैं मुंह और गले में जलन, जी मिचलाना और उल्टी।
  • बच्चों को विशेष रूप से कपूर से दूर रखना चाहिए क्योंकि वे अधिक संवेदनशील होते हैं और इसकी विषाक्तता को सहन नहीं कर सकते।
  • स्तनपान कराने वाली महिलाओं को कपूर के सेवन से बचना चाहिए। कपूर लगाने के हल्के दुष्प्रभाव हो सकते हैं, जैसे लालिमा और त्वचा में जलन।

निष्कर्ष/CONCLUSION

कपूर के लाभों को इसके जीवाणुरोधी, एंटिफंगल और विरोधी गुणों के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है जो आमतौर पर दर्द, जलन और खुजली को दूर करने के लिए शीर्ष रूप से उपयोग किया जाता है। इसका उपयोग त्वचा की स्थिति, श्वसन क्रिया में सुधार, और छाती की भीड़ और सूजन की स्थिति से राहत के लिए भी किया जाता है।

अस्वीकरण/DISCLAIMER

सामग्री विशुद्ध रूप से सूचनात्मक और शैक्षिक प्रकृति की है और इसे चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कृपया किसी उपयुक्त प्रमाणित चिकित्सा या स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर के परामर्श से ही सामग्री का उपयोग करें

You Can Also Visit On My YouTube Channel: Fitness With Nikita

Also, Read

Also, Visit the Website For Lean Php Online

https://www.learnphponline.in/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here