वातायनासन | Vatayasana | Flying Horse Pose | Steps and Benefits

3
633

वातायनासन | Vatayasana | Flying Horse Pose | Steps and Benefits

वातायनासन | Vatayasana | Flying Horse Pose | Steps & Benefits
वातायनासन | Vatayasana | Flying Horse Pose | Steps & Benefits

शाब्दिक अर्थ :

वातायन का अर्थ घोडा होता है।अश्व की मुखाकृति जैसा होने के कारण यह नाम पड़ा है |

वातायनासन करने का तरीका – Vatayasana (Flying Horse Pose) karne ka tarika in Hindi

  • एक साथ अपने पैरों के साथ खड़े रहें और अपने सिर को सीधा रखते हुए एक निश्चित बिंदु पर अपनी टकटकी लगा लें इससे ध्यान केंद्रित करने की क्षमता बढ़ाने में मदद मिलती है अपने पूरे शरीर के वजन को दाहिने पैर पर शिफ्ट करें।
  • अब अपने बाएं घुटने को मोड़ें और बाएं पैर को दाहिनी जांघ पर रखें।
  • अब अपने बाएं घुटने को मोड़ें और बाएं पैर को दाहिनी जांघ पर रखें।
  • अपने बाएं पैर को अपनी दाहिनी जांघ पर जितना संभव हो उतना ऊपर ले जाएं। आप अपने हाथों को अपने बाएं पैर की एड़ी को उस स्थान पर शिफ्ट करने के लिए उपयोग कर सकते हैं जहां यह आपके दाहिने पैर के कमर क्षेत्र और आपके दाहिनी जांघ के आधार के साथ पैर की उंगलियों को छूता है।
  • एक बार जब बायाँ पैर ऊँचा रखा जाता है तो बायीं टखने को अपने हाथ से पकड़ें जब तक आपका शरीर स्थिर न हो जाए जब तक शरीर स्थिर न हो जाए, अपने हाथों की हथेलियों को रखें एक साथ नमस्कार मुद्रा में अपनी छाती के सामने अब गहरी सांस लें और साथ ही अपने दाएं घुटने और निचले शरीर को मोड़ें, जब तक कि बाएं घुटने फर्श से बाहर न निकल जाएं, एक बार बाएं घुटने को फर्श पर टिका दें।
  • 5 सेकंड के लिए इस अंतिम स्थिति को पकड़ें और श्वेत भाग को फैलाएं। 5 सेकंड के बाद अपने शरीर के वजन को नोहरे पैर पर वापस स्थानांतरित करें दाएं पैर और बाएं घुटने पर शरीर का वजन। दाहिने घुटने को सीधा करके धीरे-धीरे अपने शरीर को ऊपर उठाते हुए गहरी सांस लें और अपनी सांस रोकें |
  • एक बार जब आप अपने दाहिने पैर पर फिर से खड़े होते हैं, तो बाएं पैर को दाहिनी जांघ से छोड़ दें और इसे फर्श पर लौटा दें।
  • अपने शरीर को आराम से खड़े होने की स्थिति में आराम से खड़े होने के लिए कम से कम 10 सेकंड के लिए फिर से दूसरे पैर के साथ मुद्रा को दोहराएं।

ध्यान :

अनाहत चक्र पर।

वातायनासन के फायदे – Vatayasana (Flying Horse Pose) ke fayde in HIndi

  •  पैर की मांसपेशियों और घुटने के जोड़ों को मजबूत करने में मदद करता है
  • यह गठिया से संबंधित कठोरता और दर्द को कम करने में मदद करता है
  •  कूल्हे क्षेत्र में रक्त के उचित परिसंचरण को बढ़ावा देता है।
  • यह कूल्हे क्षेत्र में रक्त के उचित परिसंचरण को बढ़ावा देता है।
  • यह जांघ क्षेत्र में ऐंठन को कम करता है
  • अंडकोश और प्रजनन संस्थान पर अच्छा प्रभाव पड़ता है।
  • यह आसन कूल्हों और पैरों में मामूली विषमता को ठीक करने की क्षमता का दावा करता है।

वातायनासन करने में क्या सावधानी बरती जाए – Vatayasana (Flying Horse Pose) karne mein kya savdhani barte in Hindi

  • बिना विशेषज्ञ के इस आसन का अभ्यास न करें क्योंकि आसन के दौरान संतुलन खोने की संभावना होती है|
  • कटिस्नायुशूल और स्लिप्ड डिस्क जैसी पुरानी पीठ के निचले हिस्से में दर्द वाले लोगों को इस आसन को नहीं करना चाहिए|
  • कमजोर कूल्हों, घुटनों या टखनों वाले लोगों को यह आसन नहीं करना चाहिए|
  • उच्च रक्तचाप के रोगियों को इस आसन को नहीं करना चाहिए|
  • दिल की समस्याओं वाले लोगों को इस आसन को करने से बचना चाहिए।
  • हर्निया वाले लोगों को इस मुद्रा का अभ्यास नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे दर्द में वृद्धि होगी|

You Can Also Visit On My YouTube Channel: Fitness With Nikita

Also, Read 

Watch Best Hollywood MoviesBollywood Movies, and Web Series in Full HD FREE.

 

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here