How to do Cobra Pose (Bhujangasana) Step By Step | भुजंगासन | Fitness With Nikita

0
102
How to do Cobra  Pose (Bhujangasana) Step By Step | भुजंगासन  | Fitness With Nikita
How to do Cobra Pose (Bhujangasana) Step By Step | भुजंगासन | Fitness With Nikita

How to do Cobra Pose (Bhujangasana) Step By Step | भुजंगासन | Fitness With Nikita: योग का अभ्यास प्राचीन काल से किया जाता रहा है और यह आज भी बहुत लोकप्रिय है, योग के नियमित अभ्यास से शरीर स्वस्थ रहता है और बड़ी बीमारियों से बचा जा सकता है। कई योग मुद्राएं हैं जिनमें से भुजंगासन एक प्रमुख मुद्रा है, भुजंगासन को सर्पनासन, कोबरा आसन या सर्प मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है। इस आसन में शरीर सांप की आकृति बनाता है।+

  • भुजंगासन संस्कृत भाषा की शब्दावली है जो दो शब्दों से मिलकर बनी है, जिसमें पहला शब्द भुजंग और दूसरा शब्द आसन से बना है। जहां भुजंग का अर्थ है सांप या कोबरा और आसन का अर्थ है योग मुद्रा। इसलिए, इसे कोबरा पोज़ के रूप से जाना जाता है।
  • भुजंगासन हठ योग की श्रेणी में आता है। यह आसन सूर्य नमस्कार के 12 चरणों में से सांतवा आसन है। यह आसन पेट के बल लेटने वाले आसनों में से एक है। इस आसन से हमारे शरीर की मांसपेशियां मजबूत होती हैं, रीढ़ की हड्डी मजबूत होती है। और कमर दर्द जैसी समस्या भी दूर हो जाती है।
  • इसके अलावा अगर भुजंगासन का नियमित अभ्यास करते हैं तो यह तनाव, चिंता और डिप्रेशन से मुक्ति दिलाएगा और मन भी शांत रहेगा। मोटापा घटाने वालों के लिए यह आसन बहुत फायदेमंद होता है।

भुजंगासन कैसे करें (Bhujangasana kaise karein) How to do Cobra Pose in Hindi

  • भुजंगासन करने के लिए सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं।
  • दोनों पैरों को सीधा रखें और पैरों के तलवे ऊपर की तरफ हों और पैरों के पंजों को आपस में मिला लें। माथे को फर्श पर आराम की स्थिति में रखें।
  • इस बात का ध्यान रखें कि ऐसे में दोनों पैर और एड़ी एक-दूसरे को टच करें।
  • अब दोनों हाथों की हथेलियों को अपने कंधे के नीचे लाएं और अपनी दोनों कोहनियों को फर्श के समानांतर रखें।
  • इस पोजीशन में आने के बाद सबसे पहले गहरी सांस लें, अपने दोनों हाथों को सहारा दें, सिर को ऊपर उठाएं, फिर गर्दन को ऊपर उठाएं और फिर छाती और पेट को ऊपर उठाएं।
  • लगातार सांस लें जब तक कि पीठ घुमावदार आकार में न हो जाए।
  • ध्यान रहे कि सिर से नाभि तक केवल शरीर ही उठे और नाभि के नीचे से पैरों की अंगुलियों तक समान रूप से जमीन पर रहें।
  • हो सके तो अपनी हथेली और बाहों को बिल्कुल सीधा रखें और अपने सिर को पीछे की ओर झुकाएं।
  • आंखें ऊपर की ओर रखें।
  • यह आसन तब पूरा होगा जब सिर, गर्दन और छाती आपके शरीर के कमर से ऊपर उठे रहेंगें।
  • इस दौरान अपने कंधों पर कोई दबाव न डालें, भले ही आपकी कोहनी थोड़ी मुड़ी हुई हो।
  • इस अवस्था में आसमान की ओर देखते हुए 5 से 10 सेकेंड के लिए अपनी साँसों को रोकें।
  • यदि आप सांस को रोक नहीं पा रहे हैं, तो साँसों को सामान्य रूप से लें।
  • शुरुआत में इस आसन को करते समय कुछ देर इसी मुद्रा में रहें लेकिन धीरे-धीरे इस आसन का समय बढ़ाते जाएं।

भुजंगासन के स्वास्थ्य लाभ (Bhujangasana ke Swasthya Labh) Benefits of Cobra Pose in Hindi

  • भुजंगासन करना सभी को आसान लगता है लेकिन शुरुआत में यह बहुत दर्दनाक होता है, इसके लिए नियमित अभ्यास की आवश्यकता होती है। इस आसन का अभ्यास गर्दन और पीठ को झुकाकर किया जाता है जिससे शरीर को कई लाभ होते हैं।
  • वजन कम करने के लिए कोबरा पोज एक अच्छा योगा पोज माना जाता है, यह हमारे शरीर से चर्बी को खत्म करने में मदद करता है और मेटाबॉलिक एक्टिविटी को भी ठीक करता है।
  • शरीर को स्वस्थ रखने के लिए यह बहुत अच्छा आसन है, इस आसन को करने के लिए पूरे शरीर को लचीलापन मिलता है।
  • भुजंग आसनों के नियमित अभ्यास से महिलाओं को मासिक धर्म से संबंधित समस्याओं में मदद मिलती है। और प्रजनन संबंधी रोग भी दूर हो जाते हैं।
  • पीठ दर्द के लिए भुजंगासन योग का सबसे महत्वपूर्ण लाभ। इसके अलावा, यह रीढ़ की ताकत और लचीलेपन को भी बढ़ा सकता है।
  • जो लोग रोजाना भुजंगासन करते हैं उनकी रीढ़ की हड्डी काफी मजबूत होती है और वे पहले से ज्यादा लचीले भी होते हैं।
  • इसके अलावा यह छाती, कंधों, बाहों और पेट की मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करता है।
  • अगर आपके शरीर में जमा टॉक्सिन्स को बाहर निकलने में दिक्कत होती है। इस आसन को करने से मल-मूत्र द्वारा रोग बाहर निकल जाते है।
  • इससे कब्ज और एसिडिटी नहीं होती है।
  • भुजंग आसन के प्रयोग से गले के अन्य सामान्य रोग भी दूर हो जाते हैं।
  • यह आसन अग्न्याशय को सक्रिय करता है, जिससे सही मात्रा में इंसुलिन का उत्पादन होता है, इसलिए मधुमेह से पीड़ित लोगों को यह आसन अवश्य करना चाहिए।
  • पीठ में स्थित एडा और पिंगला नाड़ियों पर इस आसन का अच्छा प्रभाव पड़ता है। खासतौर पर दिमाग से निकलने वाले रत्न मजबूत बनते हैं।
  • इसके अलावा, यह मुद्रा पूरे शरीर को सक्रिय करती है, आंतरिक अंगों को उत्तेजित करती है और हमारे शरीर में रक्त परिसंचरण को बढ़ाती है।

भुजंगासन करते समय ध्यान दिए जाने वाली सावधानियां (Bhujangasana kartey samay dhyan diye jaane waali savdhaaniyan) Precautions While Doing Cobra Pose in Hindi

  • भुजंगासन की हर प्रक्रिया नियमानुसार चरणों के अनुसार करें। अगर आप इसमें कोई बदलाव करते हैं तो आपके शरीर को परेशानी हो सकती है।
  • गर्भवती महिलाओं, या जिनकी पसली या कलाई में दरार है, या जिनका हाल ही में पेट का ऑपरेशन हुआ है, जैसे कि हर्निया, उन्हें इस आसन से बचना चाहिए।
  • यदि आप शुरुआती हैं, तो योग गुरु के निर्देशानुसार इस आसन का अभ्यास करें।
  • अगर आपको हाइपोथायरॉइड की समस्या है तो डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही इस आसन को करें।
  • भुजंग आसन करने वाले व्यक्ति को शरीर के सामने के हिस्से को जमीन से उठाते समय और नीचे लाते समय यह सुनिश्चित करना बहुत जरूरी है कि दोनों हाथों की हथेलियों में बराबर बल हो।

You Can Also Visit On My YouTube Channel: Fitness With Nikita

Also, Read 

Best Diet Chart for Covid 19 Patients in Hindi/English

Watch Best Hollywood MoviesBollywood Movies, and Web Series in Full HD FREE.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here