How to Increase Hemoglobin in Blood Naturally | हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने के उपाय

1
112
How to Increase Hemoglobin in Blood Naturally | हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने के उपाय
How to Increase Hemoglobin in Blood Naturally | हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने के उपाय

How to Increase Hemoglobin in Blood Naturally | हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने के उपाय : एनीमिया दुनिया भर में लगभग 1.62 बिलियन लोगों को प्रभावित करता है। डब्ल्यूएचओ WHO (विश्व स्वास्थ्य संगठन) का अनुमान है कि भारत में विशेष रूप से महिलाओं में एनीमिया का उच्चतम प्रसार है।

एनीमिया का क्या कारण है? | What is the cause of anemia in Hindi?

एनीमिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें रक्त में आयरन की मात्रा या हीमोग्लोबिन का स्तर सामान्य स्तर से नीचे होता है। पुरुषों के लिए, सामान्य स्तर = 13.5 ग्राम / 100 मिलीलीटर और महिलाओं में = 12.0 ग्राम / 100 मिलीलीटर इन स्तरों से नीचे एनीमिया का कारण बनता है।

ऑक्सीजन सभी जीवित जीवों की श्वास प्रक्रियाओं, ऊर्जा और चयापचय को विनियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हीमोग्लोबिन या रक्त में लौह तत्व कोशिकीय स्तर पर ऑक्सीजन परिवहन का मुख्य कार्य करता है। जब रक्त प्रवाह में हीमोग्लोबिन का स्तर कम होता है; रक्त शरीर की कोशिका ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं करेगा। इस प्रकार, फेफड़े और हृदय आवश्यक ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए अधिक समय और कठिन(मेहनत) काम करेंगे।

एनीमिया के लक्षण | Symptoms of Anemia in Hindi

  • थकान
  • ऊर्जा कम होना
  • सांस की तकलीफ और सिरदर्द का होना
  • किसी चीज़ में ध्यान न लगना
  • अनिद्रा की परेशानी
  • चक्कर आना
  • त्वचा का पीला पड़ना

योग चिकित्सा एनीमिया की स्थिति को रोकने और ठीक करने में मदद करती है। प्राणायाम, योग आसन, ध्यान और उचित आहार परिवर्तन के नियमित अभ्यास से इस स्थिति को ठीक किया जा सकता है।

प्राणायाम (Pranayama) Breathing Exercises

प्राणायाम या ब्रीदिंग एक्सरसाइज फेफड़ों की सांस लेने की क्षमता में सुधार करने में मदद करते हैं और इस तरह आरबीसी (लाल रक्त कोशिकाओं) में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ जाती है।

  • सूर्यभेदन प्राणायाम,उज्जयी प्राणायाम, अनुलोम विलोम प्राणायाम और कपालभाति प्राणायाम से ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ती है और रक्त संचार बेहतर होता है।

उज्जयी प्राणायाम

उज्जयी प्राणायाम
उज्जयी प्राणायाम

इस प्राणायाम का दैनिक अभ्यास सांस को धीमा कर देता है, शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार जैसे उपचार के साथ नाड़ियों को साफ करता है।

उज्जयी एक संस्कृत शब्द है जो दो शब्दों से मिलकर बना है:

  • “उज” जो एक उपसर्ग है जिसका अर्थ है ऊपर की ओर बढ़ना,
  • “जया” जिसका अर्थ है विजय या विजय।

इसलिए, उज्जयी शब्द का अर्थ है “जो विजयी है”, और उज्जयी श्वास का अर्थ है “विजयी सांस”।

Read More ->

सूर्यभेदन प्राणायाम

सूर्यभेदन प्राणायाम
सूर्यभेदन प्राणायाम

इस  प्राणायाम को करने से शरीर में मौजूद नाड़ी को पिंगला नाड़ी के नाम से जाना जाता है। साथ ही ऐसा करने से सूर्य नाड़ी भी सक्रिय हो जाती है। इसी वजह से इस प्राणायाम का नाम सूर्यभेदन प्राणायाम रखा गया है।

सूर्य भेदन सौर ऊर्जा को मजबूत करने, गर्मी, इच्छाशक्ति और उत्साह बढ़ाने के लिए एक सांस लेने की क्रिया है।

Read More ->

अनुलोम विलोम प्राणायाम

अनुलोम विलोम प्राणायाम
अनुलोम विलोम प्राणायाम

“इस” का अर्थ है – सीधा, और “विलोम” का अर्थ है – उल्टा। यहाँ सीधा का अर्थ है नाक या नाक का दाहिना छिद्र और उल्टा का अर्थ है नाक का बायाँ छिद्र। यानी अनुलोम विलोम प्राणायाम में दाएं नासिका से सांस लें, फिर बाएं नासिका से सांस छोड़ें। इसी तरह यदि आप बायें नासिका छिद्र से श्वास लेते हैं तो दायें नासिका से श्वास छोड़ते हैं।

Read More ->

कपालभाति प्राणायाम

कपालभाति प्राणायाम
कपालभाति प्राणायाम

इस  शब्द संस्कृत भाषा से लिया गया है। जहाँ कपाल का अर्थ है माथा (मस्तिष्क के सामने के भाग को खोपड़ी कहा जाता है) और भाती का अर्थ है ‘चमकना, रोशन’ अब बात आती है प्राणायाम की तो प्राणायाम योग के आठ अंगों में से एक है।

Read More ->

आसन (Asana) Yoga Postures

ये आसन शरीर के पूर्वकाल / सिर क्षेत्र में ऑक्सीजन में सुधार करते हैं और शरीर के न्यूरो-पेशी कामकाज में सुधार करते हैं।

  • सर्वांगासन,त्रिकोणासन,पश्चिमोत्तानासन, विपरीत-करणी और मंडूकासन।

त्रिकोणासन (Trikonasana) Triangle Pose

त्रिकोणासन (Trikonasana) Triangle Pose
त्रिकोणासन (Trikonasana) Triangle Pose

यह एक त्रिभुज जैसा दिखता है, इसलिए इसे ऐसा नाम दिया गया है। इसका नाम संस्कृत के शब्दों से बना है, त्रिकोण का अर्थ त्रिभुज और आसन का अर्थ मुद्रा है। यह आसन शरीर की मांसपेशियों को फैलाने के साथ-साथ शरीर के नियमित कार्यों में सुधार करने के लिए जाना जाता है। अन्य योग आसनों के विपरीत, जिनके बारे में हम जानते हैं, इस आसन के लिए आपको संतुलन बनाए रखने के लिए अभ्यास करते समय बैलेंस की आवश्यकता होती है।

कैसे करें:-
  • सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएँ एंव पैरों में 3 से 4 फ़ीट का फासला रखें |
  • सुनिश्चित करें कि आपका दाहिना पैर नब्बे डिग्री पर पूरी तरह से बाहर रखा गया है जबकि बायां पैर पंद्रह डिग्री पर रखा गया है।
  • अब गहरी सांस लें और जैसे ही आप सांस छोड़ना शुरू करें, शरीर को अपने कूल्हों से सीधी तरफ की ओर मोड़ें और ध्यान रहें कि आपकी कमर सीधी रहे। उलटे हाथ को ऊपर उठाएं और सीधे हाथ को जमीन को छूने दें। दोनों हाथ एक सीधी रेखा में हो।
  • जितना हो सके स्ट्रेच करें और शरीर को स्थिर करने पर ध्यान दें।
  • अब श्वास लें और फिर ऊपर आ जाएं।
  • अपने उलटे पैर से यही प्रक्रिया दोहराएं।

सर्वांगासन (Sarvangasana) Shoulder Stand Pose

सर्वांगासन (Sarvangasana) Shoulder Stand Pose
सर्वांगासन (Sarvangasana) Shoulder Stand Pose

इस आसन का अर्थ है सभी अंग और आसन। जैसा कि नाम से पता चलता है, यह आसन हमारे पूरे शरीर के अंगों को व्यायाम करने में सहायक होता है। इस योग में पूरे शरीर यानी पैर की उंगलियों से लेकर दिमाग तक की एक्सरसाइज की जाती है। इसे शोल्डर स्टैंड पोज के नाम से भी जाना जाता है।

कैसे करें:-
  • इस आसन को करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं।
  • दोनों हाथ पैरों की दिशा में सीधे जमीन पर होने चाहिए (हथेलियां जमीन की ओर रखें)। दोनों पैर सीधे एक दूसरे से सटे होने चाहिए।
  • अब धीरे-धीरे सांस अंदर-बाहर करें और दोनों पैरों को ऊपर की ओर उठाते हुए, जहां वे जमीन से 90 डिग्री का कोण बना लें।
  • अब आपको कमर और पीठ को ऊपर की तरफ उठाने के लिए दोनों हाथों का इस्तेमाल करना है। दोनों हाथों की कोहनी को जमीन पर रखें और हथेलियों से कमर को सहारा दें।
  • इस स्टेप को करते समय पैरों को सीधा रखें, घुटनों को मोड़ने न दें।
  • ऐसा करते समय ठुड्डी को गले से लगा कर रखें। और अपना मुख आकाश की ओर या पैरों के अँगूठे की ओर रखें।
  • इस आसन में शरीर का पूरा भार कंधों पर टिका होता है। तो ऐसे में अपने कंधे से लेकर कोहनी तक के हिस्से को जमीन के करीब रखें।
  • अपने पैरों को ऊपर की ओर फैलाएं और स्ट्रेच करें, और शरीर को स्थिर करें और अपनी क्षमता के अनुसार कुछ देर इसी स्थिति में रहें।
  • सांस को सामान्य रखें।
  • सर्वांगासन से बाहर आने के लिए घुटनों को धीरे से माथे के पास ले आएं। अपने हाथ जमीन पर रखें। बिना सिर को ऊपर उठाए कमर को धीरे-धीरे नीचे लाएं। अपने पैरों को जमीन पर लाएं। कम से कम 1 मिनट आराम करें।
  • इसके बाद आप इस आसन को दोबारा दोहरा सकते हैं।

पश्चिमोत्तानासन (Paschimottanasana) Seated Forward Bending Pose

पश्चिमोत्तानासन (Paschimottanasana) Seated Forward Bending Pose
पश्चिमोत्तानासन (Paschimottanasana) Seated Forward Bending Pose

इस आसन में शरीर के ऊपरी हिस्से को आगे की ओर मोड़कर आगे की ओर झुककर किया जाने वाला आसन है। यह आसन अष्टांग प्राथमिक श्रृंखला का हिस्सा है।

कैसे करें :-
  • सबसे पहले मैट पर पैर फैलाकर बैठ जाएँ। पैरों को जितना हो सके सीधा रखें|
  • इस स्थिति में गर्दन, सिर और रीढ़ की हड्डी भी सीधी रहे।
  • अब अपने सिर और धड़ को धीरे-धीरे आगे की ओर झुकाएं और अपने घुटनों को उठाये बिना हाथों की उंगलियों से पैर की उंगलियों को छूने की कोशिश करें। सांस छोड़ते हुए हाथों को आगे की ओर फैलाएं। एक पल के लिए रुको।
  • धीरे-धीरे सांस छोड़ें। अपने सिर और माथे को दोनों घुटनों से छूने की कोशिश करें। ध्यान रहे कि आगे की ओर झुकते हुए भी घुटना मुड़ा हुआ न हो।
  • यदि आप अपने पंजे को पकड़ सकते हैं और खींच सकते हैं तो यह आपको आगे झुकने में मदद करेगा।
  • सांस अंदर लेते हुए धीरे-धीरे सिर को ऊपर उठाएं ताकि रीढ़ की हड्डी में खिंचाव पैदा हो।
  • बाजुओं को मोड़ें और कोहनी से जमीन को छूने की कोशिश करें।
  • इस तरह इस क्रिया को 1 बार पूरा करने के बाद 10 सेकेंड तक आराम करें और इस क्रिया को दोबारा दोहराएं, इस तरह इस आसन को केवल 3 बार ही करें। इस आसन को करते समय सामान्य रूप से सांस लें और छोड़ें।

विपरीत-करणी (Viparita Karani) Legs up the Wall Pose

विपरीत-करणी (Viparita Karani) Legs up the Wall Pose
विपरीत-करणी (Viparita Karani) Legs up the Wall Pose

इस का नाम संस्कृत के शब्द विपरीता से आया है जिसका अर्थ उल्टा होता है, और करणी का अर्थ होता है या बनाना, और आसन का अर्थ मुद्रा होता है।

इसे लेग्स-अप-द-वॉल पोज के नाम से भी जाना जाता है।

कैसे करें:-
  • अपनी पीठ के बल आराम से लेट जाएँ ।
  • हाथों को शरीर के बगल में फर्श पर टिकाएं और सामान्य रूप से सांस लें।
  • पैरों को दीवार से थोड़ा सा झुकाएं।
  • अपने पैरों को धीरे-धीरे ऊपर की ओर उठाएं और सांस भरते हुए 90° के कोण पर लाएं।
  • कोहनी से सहारा देते हुए कूल्हों को ऊपर की और उठाएं | एंव पैरों को सिर की तरफ ऊपर लाएं कूल्हों को उसी स्तिथि में रखें|
  • गहरी सांस लेते रहें और अपने आराम के अनुसार इस स्थिति में रहें। शुरुआत में 30-60 सेकेंड तक करें।

मंडूकासन (Mandukasana) Frog Pose

मंडूकासन (Mandukasana) Frog Pose
मंडूकासन (Mandukasana) Frog Pose

यह पूरे उदर(पेट) क्षेत्र को टोन करता है और इस क्षेत्र के अंगों को टोन करता है। मंडुकासन, संस्कृत में, का अर्थ है, मंडुक जो मेंढक के लिए खड़ा है और आसन जो मुद्रा के लिए खड़ा है। इस आसन की अंतिम स्थिति मेंढक के समान होती है।

कैसे करें:-
  • सबसे पहले आपको वज्रासन में बैठना है।
  • अब अपने हाथों से अपनी चार अंगुलियों के अंदर अंगूठे को अच्छी तरह से दबा कर मुट्ठी बना लें।
  • अपनी मुट्ठी को अपनी नाभि के दोनों ओर उदर(पेट) क्षेत्र पर रखें।
  • अब सांस छोड़ते हुए पेट को थोड़ा अंदर की ओर खींचना शुरू करें। इसके बाद धीरे-धीरे आगे की ओर झुकें और अपनी मुट्ठी से नाभि को दबाना शुरू करें।
  • अपनी पीठ को जितना हो सके सीधा रखें, और आगे की ओर देखते रहें।
  • अब इस मुद्रा में सांस को बाहर रखें और कुछ समय के लिए इसी मुद्रा में रहें।
  • अब इस मुद्रा को छोड़ने के लिए श्वास लें और फिर धीरे-धीरे आराम करें।
  • इस प्रक्रिया को 4-5 बार दोहराएं।

ध्यान (Dhyan) Meditation

ध्यान विश्राम में अत्यंत लाभ देता है और तंत्रिका तंत्र को लाभ होता है। अनिद्रा के लक्षण को ठीक किया जाता है जो लाल रक्त कोशिकाओं के संचार में मदद करता है।

शवासन |

शवासन |
शवासन |

यह मुद्रा आसान लगती है लेकिन जब आप इसका अभ्यास करना शुरू करते हैं तो आपको ऐसे लाभ मिलेंगे जो आपको किसी अन्य मुद्रा से नहीं मिलेंगे।

आहार योजना | Diet Plan

  • सबसे पहले सुबह खाली पेट – एक या दो गिलास गर्म पानी में नींबू का रस और दो चम्मच शहद मिलाकर पिएं (शहद एनीमिया की स्थिति के लिए अच्छा है क्योंकि इसमें आयरन, मैंगनीज और कॉपर की मात्रा अधिक होती है।)
  • रोजाना ताजा चुकंदर का रस या पालक का रस या गाजर का रस तैयार करें
  • आयरन से भरपूर फल – खजूर, सेब, संतरा, पपीता, काले अंगूर, स्ट्रॉबेरी, खरबूजा, तरबूज, अमरूद, मुसंबी। इसे मिलाएं और कोशिश करें कि रोजाना 2 ताजे फलों को आहार में शामिल करें।
  • तला-भुना, फास्ट-फूड, मसाले, स्टार्चयुक्त और परिष्कृत चीनी युक्त भोजन से बचें।
  • चाय, कॉफी, कोको, सफेद आटा, डिब्बाबंद फल और परिष्कृत अनाज जैसे तंत्रिका उत्तेजक से बचें।
  • ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने के लिए पका हुआ केला और शहद खाएं, क्योंकि यह ऊर्जा और आवश्यक खनिजों का एक अच्छा स्रोत है।
  • काले तिल (कुछ घंटों के लिए गर्म पानी में भिगोकर) और 1 कप गर्म दूध में शहद या गुड़ मिलाकर सेवन करें।

निष्कर्ष | Conclusion

  • एनीमिक रोगी को प्रतिदिन 8 घंटे की चैन की नींद और विश्राम अवश्य करना चाहिए।
  • अत्यधिक चिंता और तनाव से बचें। मुस्कुराने और खुश रहने की कोशिश करें।

How to Increase Hemoglobin in Blood Naturally | हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने के उपाय

You Can Also Visit On My YouTube Channel: Fitness With Nikita

Also, Read 

Watch Best Hollywood MoviesBollywood Movies, and Web Series in Full HD FREE.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here