Type of Food In Hindi (भोजन के प्रकार: सात्विक, राजसिक और तामसिक आहार)

18
550

Type of Food In Hindi (भोजन के प्रकार: सात्विक, राजसिक और तामसिक आहार)

Type of Food In Hindi (भोजन के प्रकार: सात्विक, राजसिक और तामसिक आहार)
Type of Food In Hindi (भोजन के प्रकार: सात्विक, राजसिक और तामसिक आहार)

“जब आहार गलत होता है तो दवाई का कोई फायदा नहीं होता है। जब आहार सही लेते हो तो दवाई की कोई जरूरत नहीं है।”

-आयुर्वेदिक

Type of Food In Hindi (भोजन के प्रकार: सात्विक, राजसिक और तामसिक आहार) :“क्या योग आसनों / पोज़ का अभ्यास करना पर्याप्त नहीं है, क्या मुझे अपने भोजन को नियमित करना होगा?” कई आश्चर्य। अपने आप में, योग आसनों का अभ्यास करना सबसे अधिक लाभकारी शासनों में से एक है, लेकिन जब स्वस्थ भोजन की आदतों के साथ पूरक होता है, तो यह वास्तव में चमत्कार पैदा कर सकता है। वास्तव में, सही भोजन करना योगिक जीवन जीने का एक अनिवार्य हिस्सा है।

हम जो खाते हैं वह न केवल हमारे शारीरिक भलाई, बल्कि हमारी भावनाओं और विचारों को भी प्रभावित करता है। योग, प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट या वसा में भोजन को विच्छेदित नहीं करता है, इसके बजाय यह उनके शरीर और मस्तिष्क पर तीन प्रकारों में प्रभाव के अनुसार उन्हें वर्गीकृत करता है सत्व, रजस और तमस। तामसिक भोजन एक प्रकार का भोजन है जो हमें सुस्त और आलसी बना देता है, जबकि राजसिक भोजन होता है जो हमारे शरीर में गतिविधि और बेचैनी लाता है। सात्विक भोजन वह भोजन होता है जो आपके शरीर को हल्का, ऊर्जावान और उत्साही महसूस कराता है।

सात्विक भोजन | Sattvic Food | Satvik Food

  • सात्विक भोजन वे हैं जो शरीर को शुद्ध करते हैं और मन को शांत करते हैं।
  • पकाया हुआ भोजन जो 3-4 घंटों के भीतर खाया जाता है, हो सकता है सात्विक माना जाता है।
  • उदाहरण – ताजे फल हरी पत्तेदार सब्जियां, नट्स, अनाज, ताजा दूध।

राजसिक भोजन | Rajasic Food

  • वे शरीर और मन को क्रिया में उत्तेजित करते हैं।
  • अधिक मात्रा में, खाद्य पदार्थ अति सक्रियता, बेचैनी, क्रोध, चिड़चिड़ापन और नींद न आने का कारण बन सकते हैं।
  • अत्यधिक स्वादिष्ट भोजन राजसिक हैं।
  • उदाहरण – मसालेदार भोजन, प्याज, लहसुन, चाय, कॉफी, तला हुआ भोजन।

तामसिक भोजन | Tamasic Food

  • तामसिक भोजन वे हैं जो मन को सुस्त करते हैं भ्रम और भटकाव लाते हैं ।
  • बासी या गर्म भोजन, तैलीय या भारी भोजन और कृत्रिम परिरक्षकों वाले भोजन इस श्रेणी में आते हैं ।
  • उदाहरण – मांसाहारी भोजन, बासी भोजन, वसा, तेल, शर्करा युक्त भोजन का अधिक सेवन करना।

ये है खाना खाने का सही तरीका

सिर्फ सही तरह का भोजन ही नहीं, सही समय पर उचित मात्रा में भोजन करना महत्वपूर्ण है। ओवरईंडलिंग से सुस्ती आती है जबकि खाने के लिए पर्याप्त पोषण नहीं मिलेगा। ज्यादातर समय हम जानते हैं कि हमारा पेट भरा हुआ है, लेकिन स्वाद की वजह से लुभाया जाता है। भोजन की सही मात्रा किलो या ग्राम में मापी नहीं की जा सकती। जब हम अपने शरीर अच्छे से जानेंगे तो हमें जान पायेंगे कि वास्तव में हमें कब रुकना है!

ऐसा कहा जाता है कि खाना पकाने / खाने वाले व्यक्ति के दिमाग की स्थिति भी भोजन को प्रभावित करती है। किसी के द्वारा पकाए गए भोजन में ऊर्जा, वह गुस्से में था, निश्चित रूप से उस व्यक्ति की तुलना में कम होगा, जिसने इसे प्यार, संतोष और कृतज्ञता की भावना से पकाया है। खाना पकाने और खाने के दौरान कुछ सुखदायक संगीत सुनना या जप करना भोजन में प्राण (जीवन शक्ति ऊर्जा) को बनाए रखने में मदद कर सकता है।

निष्कर्ष

योग हमारे संविधान की प्रकृति के अनुसार अधिक व्यक्तिगत आहार भी निर्धारित करता है । भोजन जो किसी के लिए अनुकूल हो सकता हैै । दूसरे संविधान के व्यक्ति के लिए हानिकारक हो सकता है। यह तय करने के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करना सबसे अच्छा है कि आपके लिए किस तरह का भोजन आवश्यक है और किससे बचा जाना चाहिए। प्राचीन भारतीय ग्रंथों में कहा गया है कि हम जो भोजन करते हैं, उस पर कुछ ध्यान देना निश्चित रूप से सार्थक है।

Also, Read 

5 Yoga Poses To Strong Your Immune System Against Covid-19

Top 5 Yoga Asana For Relief Lower Back Pain

Watch Best Hollywood MoviesBollywood Movies, and Web Series in Full HD FREE.

18 COMMENTS

  1. Anup
    mujhe Sattvic Food pasand hai apne sahi information di h yaha ki bhojan thik se nhe kiya jae tho hamari body per uska kya effect pdta hai or kaise kaise bhojan karne chaiye.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here